National Digital Health Mission(NDHM) Yojana : आधार कार्ड जैसा होगा यूनिक हेल्थ कार्ड -देखिये कैसे बनवाये

आगे शेयर जरूर करना

National Digital Health Mission | राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन योजना | नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन योजना | NDHM |DigitalHealthcare

National Digital Health Mission(NDHM): नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने वाले है NDHM के बारे में ! यहाँ हम नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन योजना के बारे पूरी जानकारी देने जैसे की हेल्थ कार्ड कैसे बनवाये? , ऑनलाइन और ऑफलाइन हेल्थ कार्ड कैसे बनवाये? , हेल्थ कार्ड के फायदे और नुकसान , कार्ड में कौन कौन सी विगत को भरना अनिवार्य है आदि इन सभी सवाल के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल जायेंगे तो हमारे साथ बने रहिये।

National Digital Health Mission (NDHM)

केंद्र सरकार द्वारा यूनिक हेल्थ कार्ड की योजना लॉन्च करने की पूरी तैयारी कर ली है। इस हेल्थ कार्ड में स्वास्थ्य सबंधित सभी विगत सूचित किया होगा। इस कार्ड में आपके सभी प्रकार के नए या पुराने मेडिकल रिपोर्ट सामिल होंगे जिसे आप कभी किसी और राज्य में जाये तो आपको अपने रिपोर्ट साथ में नहीं ले जाना पड़ेगा। इस हेल्थ कार्ड में डॉक्टर्स , हॉस्पिटल लेब और केमिस्ट तक सभी माहिती को दर्ज किया जायेगा। अभी तक यह योजना सिर्फ कुछ गिने चुने राज्य में जैसे की अंदमान-निकोबार, चंढीगढ़, दादरा नगर हवेली, दीव-दमन, लदाक और लक्षद्वीप में लॉन्च की गई थी पर अब इस योजना को पुरे भारत में लॉन्च करने की तैयारी हो चुकी है

योजना का नामNational Digital Health Mission(NDHM)
किसने लॉंन्च कियाकेंद्र सरकार
लाभार्थीदेश के सभी नागरिक
उद्देश्यआधारकार्ड की तरह सभी भारतीयों को हेल्थ कार्ड देना
आधिकारिक वेबसाइटNDHM
DigitalHealthcare
National Digital Health Mission

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन योजना क्या है?

प्रधानमंत्री श्री मोदीजी ने इस महीने National Digital Health Mission (NDHM) योजना का प्रारंभ करे ऐसी संभावना है। इस योजना के तहत सभी आवेदन करता को एक कार्ड दिया जायेगा जो आधारकार्ड जैसा होगा जिसमे सभी प्रकार की माहिती रजिस्टर मोबाईल नंबर से लिंक होगी। उसीके साथ आपके तमाम प्रकार के मेडिकल रिपोर्ट शामिल होंगे यानि की आपके रजिस्टर मोबाइल जो भी OTP आएगा उसे डॉक्टर आपकी सभी प्रकार की माहिती और मेडिकल रिपोर्ट मोबाइल में देख सकता है

NDHM की मुख्य बाते

  • इस कार्ड में आपके सभी प्रकार के रिपोर्ट सामिल होंगे
  • इस कार्ड में डॉक्टर्स , हॉस्पिटल लेब और केमिस्ट तक सभी माहिती को दर्ज किया जायेगा
  • रजिस्टर मोबाइल नंबर के OTP देने के बाद ही डॉक्टर आपकी माहिती देख सकता है
  • आधारकार्ड के जैसा होगा यूनिक हेल्थ कार्ड

यूनिक हेल्थ कार्ड के फायदे

  • यूनिक हेल्थ कार्ड में आपके स्वास्थ्य से सबंधित सभी माहिती को डिजिटल फॉर्मेट में दर्ज किया जाएगा।
  • आसान साइन अप- मोबाइल नंबर, या आधार के साथ केवल अपनी बुनियादी जानकारी का उपयोग करके अपना स्वास्थ्य आईडी बनाएं।
  • पूरी मेडिकल हिस्ट्री को अपडेट किया जाएगा।
  • आप कही भी किसी भी राज्य में इलाज करवाने जाये तो आपको अपने पुराने रिपोर्ट ले जाने की जरुरत नहीं होगी क्योकि आपको इस कार्ड की मदद इ डिजिटल फॉर्मेट में रिपोर्ट मिल जायेंगे।
  • डॉक्टर इस कार्ड की मदद से आपके सभी डेटा को देख सकता है।
  • इस कार्ड की मदद से आपके समय और पैसे की बचत होंगी।
  • सहमति आधारित पहुंच- आपकी स्पष्ट और सूचित सहमति के बाद आपके स्वास्थ्य डेटा तक पहुंच प्रदान की जाती है। यदि आवश्यक हो, तो आपके पास सहमति को प्रबंधित करने और रद्द करने की क्षमता है।
  • डॉक्टरों तक पहुंच- देश भर में सत्यापित डॉक्टरों तक पहुंच को सक्षम बनाता है।

हेल्थ कार्ड बनवाने में कौन-कौन से डॉक्युमेंट जरुरी है?

इस कार्ड को बनवाने में आपको कुछ ज्यादा नहीं सिर्फ आपकी प्राथमिक माहिती की जरुरत है

मोबाइल नंबर के माध्यम से हेल्थ आईडी बनाने के लिए- नाम, जन्म का वर्ष, लिंग, पता, मोबाइल नंबर।
बी। आधार के माध्यम से स्वास्थ्य आईडी निर्माण के लिए- नाम, जन्म का वर्ष, लिंग, पता, मोबाइल नंबर, आधार

  • जन्म तारीख
  • नाम
  • मोबाइल नंबर

GSWAN Kya Hai उसकी पूरी जानकारी

ऑनलाइन यूनिक हेल्थ कार्ड कैसे बनवाये ?

केंद्र सरकार द्वारा जब भी इस योजना को पुरे भारत में लॉन्च किया जायेगा तब इस National Digital Health Mission(NDHM) Yojana की एक App लॉन्च की जाएँगी। इस App को गूगल प्लेस्टोर से आप NDHM App (PHR App) करके डाउनलोड कर सकते हो। इस App की मदद से आप अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हो। बाद में आपको 14 अंक का यूनिक हेल्थ कार्ड होगा।

ऑफलाइन यूनिक हेल्थ कार्ड कैसे बनवाये ?

अगर आपके पास स्मार्ट फ़ोन नहीं है तो आप ऑफलाइन भी इस कार्ड को बनवा सकते है। सबसे पहले आपको रजिस्टर्ड सरकारी-प्राइवेट हॉस्पिटल, कॉम्यूनिटी हेल्थ सेंटर, प्राइमरी हेल्थ सेंटर, वेलने हेल्थ सेंटर, कॉमन सर्विस सेंटर, आदि ऑफिस से कार्ड को बनवा सकते हो। जहा आपको अपनी प्राथमिक माहिती को पूछा जाएगा।

यूनिक हेल्थ कार्ड में माहिती कैसे दर्ज की जाएँगी?

कार्ड बनने के बाद पुराने रिपोर्ट को आपको खुद अपने फ़ोन से स्केन करके उपलोड करना होगा लेकिन जो भी रिपोर्ट कार्ड बनने के बाद के है यानि की नए वाले सभी रिपोर्ट सिस्टम द्वारा ऑटोमेटिक उपलोड किये जायेंगे। जिसे आप अपने NDHM App (PHR App) देख सकते है।

Health Card में कौन कौन सी माहिती दर्ज की जाएँगी?

आपके मेडिकल रिकॉर्ड की सभी माहिती इस कार्ड में दर्ज की जाएँगी। आपके पुराने और नए रिपोर्ट इस कार्ड में दिए जायेंगे जिसे डॉक्टर को इलाज करने और रिपोर्ट समज ने में आसानी होगी। उसीके साथ आपका नाम , मोबाइल नंबर, और पता भी दर्ज किया जाएगा।

दूसरे शहर में डेटा कैसे मिलेगा?

हम आपको बता दे की कई लोगो में इ सवाल होगा की दूसरे सहर जब इलाज करवाने जाये तो वहा पर रिपोर्ट के डेटा कैसे मिलेगा? इस सवाल का जवाब है की आपका डेटा कोई हॉस्पिटल में नहीं बल्कि डेटा सेंटर में होता है जी से हम अपने Health Card से देख सकते है। और भविष्य में यह कार्ड आधारकार्ड के जैसे महत्त्व का हो जाएगा।

क्या यूनिक हेल्थ कार्ड का डेटा कोई भी देख सकता है?

नहीं, इस कार्ड में मौजूद सभी डेटा को लॉक किया गया है इस डेटा को देखने के लिए आपके रजिस्टर मोबाईल नंबर पर OTP भेजा जाएगा वो OTP शेर करने के बाद ही आप का डेटा कोई देख सकता है और OTP जनरेट तब होगा जब कोई हॉस्पिटल या कोम्प्युटर में कोई आपका यूनिक हेल्थ कार्ड का 14 अंक को दर्ज करेंगा तभी उसके सामने आपका पूरा डेटा स्क्रीन पर खुल कर आएगा पर वो सिर्फ आपके डेटा को देख सकता है पर कॉपी या ट्रान्सफर नहीं कर सकता है। सुरक्षा के मामले में यह एक महत्त्व पूर्ण बाबत है।

Health Card को बनाना अनिवार्य है?

नहीं, Health Card को बनाना अनिवार्य नहीं है पर यह एक महत्वपूर्ण कार्ड है जिसे बनाना जरुरी है बाकि आपकी मर्जी

हमें उम्मीद है की आपको यह माहिती जरूर पसंद आई होंगी अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आगे शेयर जरूर करना

FAQ-National Digital Health Mission

Health Card क्या है?

जो कोई भी एनडीएचएम में भाग लेना चाहता है और उनके स्वास्थ्य रिकॉर्ड डिजिटल रूप से उपलब्ध हैं, उन्हें एक हेल्थ आईडी बनाकर शुरुआत करनी चाहिए। हेल्थ आईडी एक बेतरतीब ढंग से उत्पन्न 14 अंकों की संख्या है जिसका उपयोग विशिष्ट रूप से व्यक्तियों की पहचान करने, उन्हें प्रमाणित करने और उनके स्वास्थ्य रिकॉर्ड (केवल उनकी सूचित सहमति के साथ) को कई प्रणालियों और हितधारकों में फैलाने के लिए किया जाता है।

Health Card पर पंजीकरण के क्या लाभ हैं?

डिजिटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड्स, आसान साइन अप, स्वैच्छिक ऑप्ट इन, सहमति आधारित पहुंच, डॉक्टरों तक पहुंच, सुरक्षित और निजी,

क्या Health Card पर नामांकन अनिवार्य है?

नहीं। एनडीएचएम और हेल्थ आईडी में भाग लेना पूरी तरह से स्वैच्छिक है।

PHR पता क्या है?

PHR (व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड पता) एक स्व-घोषित उपयोगकर्ता नाम है जिसे स्वास्थ्य सूचना विनिमय और सहमति प्रबंधक (HIE-CM) में साइन इन करने की आवश्यकता होती है। डेटा साझाकरण को सक्षम करने के लिए प्रत्येक स्वास्थ्य आईडी को एक सहमति प्रबंधक से लिंकेज की आवश्यकता होगी। वर्तमान में सभी हेल्थ आईडी उपयोगकर्ता हेल्थ आईडी साइन अप के दौरान अपना स्वयं का पीएचआर पता उत्पन्न कर सकते हैं।

HIE (स्वास्थ्य सूचना विनिमय) क्या है

स्वास्थ्य सूचना विनिमय और सहमति प्रबंधक (HIE-CM) एक सहमति प्रबंधक है जो उपयोगकर्ता के लिए सहमति प्रबंधन और व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड को साझा करने और जोड़ने में सक्षम बनाता है

मैं Health Card कैसे प्राप्त करूं?

आप हेल्थ आईडी वेब पोर्टल पर स्व-पंजीकरण द्वारा या Google Playstore से एनडीएचएम हेल्थ रिकॉर्ड्स एप्लिकेशन डाउनलोड करके हेल्थ आईडी प्राप्त कर सकते हैं। phr) आप यहां पंजीकरण कर सकते हैं या यहां मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड कर सकते हैं।
बी। आप भाग लेने वाली स्वास्थ्य सुविधा में अपनी स्वास्थ्य आईडी बनाने के लिए भी अनुरोध कर सकते हैं, जिसमें पूरे भारत में सार्वजनिक / निजी अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र शामिल हो सकते हैं।


आगे शेयर जरूर करना

1 thought on “National Digital Health Mission(NDHM) Yojana : आधार कार्ड जैसा होगा यूनिक हेल्थ कार्ड -देखिये कैसे बनवाये”

Leave a Comment